IND vs SL: दीपक चाहर ने किया खुलासा-कोच राहुल द्रविड की एक सलाह ने दी ऐसी पारी खेलने की हिम्मत

भारत और श्रीलंका के बीच चल रही वनडे सीरीज के दूसरे मुकाबले में टीम इंडिया ने 3 विकेट से जीत हासिल कर सीरीज पर कब्जा जमा लिया है। शिखर धवन की कप्तानी में टीम इंडिया की यूथ ब्रिगेड ने शानदार प्रदर्शन किया। इस मैच में दीपक चाहर ने गेंदबाजी और बल्लेबाजी दोनों में बेहतरीन प्रदर्शन किया। चाहर को मैन ऑफ द मैच चुना गया। श्रीलंका ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी और टीम इंडिया को 275 रन का लक्ष्य दिया। वहीं लक्ष्य का पीछा करने उतरी टीम इंडिया ने 160 रनों पर अपने 6 विकेट खो दिए थे। इसके बाद दीपक चाहर ने पारी को संभाला और टीम इंडिया को जीत दिलाई। मैच के बाद चाहर ने कहा कि उनकी बेहतरीन पारी में हेड कोच राहुल द्रविड की एक सलाह का बड़ा योगदान रहा।

दीपक चाहर का ऑलराउंड प्रदर्शन
कोलंबो में खेले गए वनडे सीरीज के दूसरे मुकाबले में दीपक चाहर ने ऑलराउंड प्रदर्शन किया। टीम इंडिया की लड़खडाती पारी को संभालते हुए दीपक चाहर ने नाबाद 69 रन बनाए। वहीं गेंदबाजी में उन्होंने बेहतरीन प्रदर्शन किया। चाहर ने श्रीलंका टीम के दो महत्वपूर्ण विकेट झटके। मैन ऑफ द मैच का अवॉर्ड मिलने के बाद चाहर ने बताया कि उनकी इस पारी में हेड कोच राहुल द्रविड़ की एक सलाह का भी बड़ा योगदान रहा।

यह भी पढ़ें— IND vs SL 2nd ODI: टीम इंडिया ने श्रीलंका को दूसरे वनडे में 3 विकेट से हराकर सीरीज पर किया कब्जा

deepak_and_rahul_dravid.png

मैच के दौरान दी थी यह सलाह
दीपक चाहर ने बताया कि राहुल द्रविड ने मैच के दौरान उन्हें एक सलाह दी थी, जो उनके बहुत काम आई। चाहर ने बताया कि हेड कोच राहुल द्रविड ने उनसे कहा था कि तुम सारी गेंद खेल जाओ। चाहर ने कहा कि उन्होंने इंडिया ए के लिए कुछ अच्छी पारियां खेली थी और उन्हें खुद पर भरोसा था। चाहर ने कहा कि उन्हें खुद पर विश्वास था कि वह गेम बदलने वाले खिलाड़ी बन सकते हैं। वहीं चाहर ने यह भी कहा कि राहुल द्रविड को भी उन पर पूरा भरोसा था। राहुल द्रविड़ ने दीपक चाहर से कहा था कि वो नंबर 7 पर बल्लेबाजी के लिए सही खिलाड़ी हैं।

यह भी पढ़ें— सोढ़ी का बड़ा बयान, रवि शास्त्री को रिप्लेस कर सकते हैं द्रविड़

ऐसी पारी खेलने के सपने देखते थे दीपक चाहर
दीपक चाहर का कहना है कि हर क्रिकेटर ऐसी पारी खेलने का सपना देखता है। चाहर ने कहा कि जब वह बल्लेबाजी करने उतरे तो उनके दिमाग में भी देश के लिए ऐसी ही पारी खेलने की बात चल रही थी। चाहर का कहना है कि उन्होंने पहली बार ऐसी परिस्थिति में बल्लेबाजी की। उन्होंने बताया कि जब जीत के लिए 50 रन चाहिए थे तब उन्होंने चौके-सिक्स लगाने का फैसला किया। उनका कहना है कि जब 43वें ओवर में उन्होंने संदाकन की गेंद पर सिक्स लगाया, वहां से वह पूरी तरह लय में आ गए थे। दीपक चाहर ने भुवनेश्वर कुमार के साथ मिलकर 8वें विकेट के लिए नाबाद 84 रनों की साझेदारी की और टीम को सीरीज जिताई।



from https://ift.tt/3kzWNIu

Post a Comment

0 Comments