जब सौरव गांगुली ने लॉर्ड्स में दिखाई 'दादागिरी', उनका ऐसा रूप पहले नहीं देखा था किसी ने

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के अध्यक्ष सौरव गांगुली टीम इंडिया के सफल कप्तानों में से एक रहे हैं। 'बंगाल टाइगर' और 'दादा' के नाम से मशहूर सौरव गांगुली आज 8 जुलाई को 49 साल के हो गए हैं। गांगुली ने अपने क्रिकेट कॅरियर में कई रिकॉर्ड बनाए। उनके कई किस्से काफी मशहूर हैं, लेकिन लॉर्ड्स में उनका टीशर्ट उतारकर लहराना आज भी लोगों को याद है। गांगुली का यह रूप देखकर दुनिया दंग रह गई थी। यह किस्सा 13 जुलाई, 2002 को लॉर्ड्स के मैदान पर इंग्लैंड और टीम इंडिया के बीच हुए फाइनल मैच के दौरान का है।

मैच जीतते ही 'दादा' ने लहराई टीशर्ट
इंग्लैंड और भारत के बीच नेटवेस्ट सीरीज खेली जा रही थी। लॉर्ड्स में इस सीरीज का फाइनल मैच था। स्टेडियम दर्शकों से खचाखच भरा हुआ था। टीम इंडिया के जहीर खान और मोहम्मद कैफ बैटिंग कर रहे थे। जैसे ही उन्होंने जीत का रन लिया तो लॉर्ड्स की बालकनी में बैठे कप्तान सौरव गांगुली ने अपनी टीशर्ट उतारी और हवा में लहराने लगे। वहीं मैच हराने के बाद इंग्लैंड के खिलाड़ी एंड्रयू फ्लिंटॉफ हताश होकर पिच पर बैठ गए।

यह भी पढ़ें— भारत-पाकिस्तान के बीच क्रिकेट सीरीज शुरू कराने में सौरव गांगुली साबित होंगे सबसे बड़ा फैक्टर: कामरान अकमल

sourav_ganguly.png

फ्लिंटॉफ को गांगुली का जवाब
दरअसल, मैच जीतने के बाद सौरव गांगुली ने टीशर्ट निकालकर जब हवा में लहराई तो यह एंड्रयू फ्लिंटॉक को उनका जवाब था। उस वर्ष फरवरी में जब इंग्लैंड ने मुंबई के वानखेडे स्टेडियम में भारत को हराया था तो एंड्रयू फ्लिंटॉफ ने अपनी टीशर्ट निकालकर मैदान पर दौड़ लगाई थी। इसका बदला सौरव गांगुली ने लॉर्ड्स में लिया। इंग्लैंड को हराने के बाद उन्होंने अपनी टीशर्ट लहराकर फ्लिंटॉफ को उसका जवाब दिया था। इस मैच में युवराज सिंह ने 69 रनों की और मोहम्मद कैफ नाबाद 87 की शानदार पारी खेलकर टीम इंडिया को दो विकेट से जीत दिलाई थी। हालांकि गांगुली ने अपनी किताब 'ए सेंचुरी इज नॉट एनफ' में इस घटना का जिक्र करते हुए माना कि ऐसा करना सही नहीं था। जीत का जश्न मनाने के लिए और भी कई तरीके थे।

यह भी पढ़ें— सौरव गांगुली को गेंदबाजी करा चुका क्रिकेटर परिवार के लिए दाल-पूडी बेचने को हुआ मजबूर

sourav_ganguly2.png

सहवाग को बनाया ओपनर
सौरव गांगुली हमेशा अपने टीम के साथियों और युवा खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करते रहते थे। सौरव गांगुली ने एक इंटरव्यू में बताया था कि उन्होंने लोअर ऑर्डर बल्लेबाज सहवाग को पहचाना और ओपनिंग के लिए तैयार किया। एक बार तो सहवाग के लिए गांगुली चयन को लेकर अड़ गए थे। विदेशी दौरे पर जब कहा गया कि सहवाग बाउंसर्स नहीं झेल पाएंगे तो गांगुली ने कहा कि बिना किसी को मौका दिए ये कैसे कह सकते हैं। इसके बाद अपने पहले ही विदेशी दौरे पर सहवाग ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ शतक लगाया था।



from https://ift.tt/3ANVWK3

Post a Comment

0 Comments