टेस्ट क्रिकेट में इन 5 भारतीयों को मिले होते पर्याप्त मौके तो आज होते टीम इंडिया के संकटमोचक

नई दिल्ली। हर खिलाड़ी की ख्वाहिश होती है कि वह अपने देश के लिए क्रिकेट खेले। लेकिन कुछ ही लोगों का यह सपना पूरा हो पाता, जबकि कुछ को अपना टैलेंट दिखाने के कम ही चांस मिल पाते हैं। फिलहाल भारतीय टीम में भी कुछ ऐसा युवा मौजूद हैं जिन्हें लगातार टेस्ट टीम में नजरअंदाज किया जा रहा है। आज हम इस आर्टिकल में उन 5 खिलाड़ियों से रूबरू करवाने जा रहे हैं जिन्हें टैलेंटेड होने के बावजूद भारतीय क्रिकेट में कम ही मौके मिल पा रहे हैं। अगर इन्हें अपने टैलेंट के अनुसार मौके मिले होते आज भारतीय टीम के लिए संकटमोचक होते।

यह भी पढ़ें—धनश्री वर्मा के बाद मुश्किल दौर से गुजर रहे युजवेंद्र चहल का छलका दर्द, शेयर किया इमोशनल पोस्ट

 

jaydev_unadkat.jpg

जयदेव उनादकट
पोरबंदर के 29 वर्षीय क्रिकेटर जयदेव उनाकट ने घरेलू क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन किया है। वह 2010 से सौराष्ट्र के लिए खेल रहे हैं। अब तक वह कुल 89 फर्स्ट क्लास मैच, 100 लिस्ट ए और 150 घरेलू टी20 मैच खेल चुके हैं। उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट मैच से अपने अंतरराष्ट्रीय कॅरियर की शुरुआत की थी। लेकिन इसे उनादकट का दुर्भाग्य ही कहेंगे कि उन्होंने 11 साल के अंतरराष्ट्रीय कॅरियर में सिर्फ 1 टेस्ट मैच ही खेला है। फर्स्ट क्लास में उन्होंने शानदार गेंदबाजी करते हुए 89 मैचों में 327 विकेट निकाले हैं। फिर भी चयनकर्ता उन्हें लगातार नजरअंदाज करते आ रहे हैं। इसमें कोई शक नहीं कि अगर उनादकट को पर्याप्त मौके मिलते तो वह टीम इंडिया के अहम सदस्य होते।

 

karun_nair.jpg

करुण नायर
जोधपुर के 29 वर्षीय बल्लेबाज करुण नायर (Karun Nair) ने कर्नाटक की ओर से 2013 में अपना फर्स्ट क्लास कॅरियर शुरू किया था। वह अब तक कुल 82 फर्स्ट क्लास मैच खेल चुके हैं। इन मैचों में नायर ने 131 पारियों में बल्लेबाजी करते हुए 48.12 के बल्लेबाजी औसत से 5631 रन बनाए हैं। उन्होंने भारत के लिए 2016 में अपना अंतरराष्ट्रीय कॅरियर शुरू किया। उन्होंने अंतरराष्ट्रीय टेस्ट क्रिकेट में तीसरा शतक भी लगाया, लेकिन इसके बाद उन्हें लगातार नजरअंदाज किया जा रहा है। उन्होंने 6 मैचों में 62.33 के शानदार बल्लेबाजी औसत से 374 रन बनाए हैं।

 

yadav.jpg

कुलदीप यादव
कानपुर के 26 वर्षीय युवा चाइनामैन स्पिनर कुलदीप यादव (Kuldeep Yadav) के टीम इंडिया में चयन को लेकर काफी समय से विवाद चल रहा है। कुलदीप ने वर्ष 2014 में उत्तर प्रदेश के लिए घरेलू क्रिकेट की शुरुआत की थी। वे अब तक 33 फर्स्ट क्लास मैचों में शानदार गेंदबाजी करते हए 123 विकेट चटका चुके हैं। उनके शानदार प्रदर्शन के बाजवूद अभी तक उन्हें अंतरराष्ट्रीय टेस्ट क्रिकेट में केवल 7 मैच ही खेलने का मौका मिला है। इन मैचों में वह 3.49 की शानदार इकोनॉमी से 26 विकेट निकला चुके हैं। इसके बावजूद उन्हें टीम में जगह नहीं मिल पा रही है।

 

shubhman_gill.jpg

शुभमन गिल
फाजिल्का के 21 वर्षीय युवा क्रिकेटर शुभमन गिल ने 2017 में पंजाब के लिए अपने घरेलू क्रिकेट कॅरियर की शुरुआत की थी। अब तक वह 30 फर्स्ट क्लास मैच खेल चुके हैं। इन मैचों में वह 60.18 की बल्लेबाजी औसत से 2648 रन बना चुके हैं, जिसमें उनके बल्ले से 7 शतक और 14 अर्धशतक निकले हैं। लेकिन इसके बाजवूद चयनकर्ता उन्हें राष्ट्रीय टीम के लिए नजरअंदाज करते आ रहे हैं। शुभमन गिल को पहली बार सीनियर राष्ट्रीय टीम के लिए 2020 में ऑस्ट्रेलिया दौरे पर टेस्ट क्रिकेट (Test Cricket) खेलने का मौका मिला था। 7 टेस्ट खेल चुके शुभमन गिल 34.36 की बल्लेबाजी औसत से 378 रन बना चुके हैं, जिसमें उन्होंने 3 अर्धशतक लगाए हैं।

mahommed_siraj.jpg

मोहम्मद सिराज
हैदराबाद के 27 वर्षीय गेंदबाज मोहम्मद सिराज ने 2015 में हैदराबाद की टीम के लिए अपने फर्स्ट क्लास कॅरियर की शुरुआत की थी। अब तक वह 43 फर्स्ट क्लास मैच खेल चुके हैं। इन मैचों में वह 168 विकेट चटका चुके हैं। उन्हें 2020 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज़ में टेस्ट डेब्यू करने का मौका दिया। इस दौरान अंतरराष्ट्रीय टेस्ट क्रिकेट (Test Cricket) में भी मोहम्मद सिराज ने 5 टेस्ट मैच खेल कर 2.81 शानदार इकोनॉमी रेट से 16 विकेट चटकाए हैं।



from https://ift.tt/3v7SA1a

Post a Comment

0 Comments