Subscribe Us

गाजियाबाद में सिर पर गेंद लगने से क्रिकेटर की मौके पर ही मौत

नई दिल्ली। खेल में मैदान में कई प्रकार के हादसे होते रहते है। खेलते वक्त कई बार खिलाड़ी चोटिल हो जाते है। कुछ तो जल्दी ठीक हो जाते है। वहीं कुछ खिलाड़ी को गहरी चोट लगने के कारण सर्जरी करवानी पड़ती है। कई बार खेल के मैदान में ऐसा होता जिससे खिलाड़ी की मौत भी हो जाती है। हाल ही में उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद से एक भयावह घटना सामने आई है। यहां पर एक क्रिकेट खेल के दौरान एक खिलाड़ी के सिर पर गेंद लगने से उसकी मौत हो गई है। यह चौंकाने वाली घटना 8 अप्रैल की है। यह घटना राज नगर एक्सटेंशन में पिच की है। 8 अप्रैल की त्रासदी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

मैदान पर ही खिलाड़ी की मौत
खबरों के अनुसार राज नगर एक्सटेंशन में क्रिकेट खेला जा रहा था। जैसे ही गेंदबाज ने अपने ओवर की गेंद डाली, बल्लेबाज उस पर अच्छा शॉट खेलना चाहते थे। बॉल बहुत तेज और उसके सिर पर टक्करा गई। इसके बाद वह अचेत होकर सीधा जमीन पर गिर गया। दूसरे खिलाड़ी मदद के लिए उसकी और दौड़े। लेकिन दुर्भाग्य से उसकी मौत हो गई। यह नजारा बहुत ही डरावना था। यह घटना सामने आने के बाद क्रिकेट प्रेमियों में सुरक्षा को लेकर डर साथ ही वे इस हादसे काफी दुखी भी है।

यह भी पढ़े : सचिन तेंदुलकर ने 15 साल की उम्र में बनाया था अपना पहला CV, जानिए सीवी की दिलचस्प बातें


ऑस्ट्रेलियाई ओपनर फिलिप ह्यूज की मौत
आपको बता दें इससे पहले भी खेल के मैदान पर ऐसी घटना घट चुकी है। ऑस्ट्रेलिया के 25 वर्षीय ओपनर बल्लेबाज फिलिप ह्यूज की भी मैदान गेंद की लगने से मौत हो गई थी। सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर घेरेलू शैफील्ड शील्ड ट्रॉफी के मैच में ह्यूज 63 रन बनाकर खेल रहे थे। वह न्यू साउथ वेल्स के 22 वर्षीय गेंदबाज सीन एबोट की एक गेंद को हुक करने के लिए आगे बढ़े, लेकिन शॉट चूक गए और गेंद सीधे उनके सिर के पीछे जा लगी। इसके बाद उनको अस्पताल ले जाया गया, लेकिन उनका बचाया नहीं गया।

यह भी पड़ें :— ICC ODI Ranking : विराट कोहली को पछाड़ पाकिस्तानी क्रिकेटर बाबर आजम बने नंबर 1 बल्लेबाज

खिलाड़ियों और कोचिंग स्टाफ को सलाह
मैदान में खिलाड़ियों की सुरक्षा को लेकर कई में नियमों सुधार किया गया है स्टंप के करीब खड़े फील्डरों और विकेटकीपरों को सलाह दी गई है कि वे शरीर के प्रत्येक महत्वपूर्ण हिस्से के लिए सुरक्षात्मक गियर पहनें। खिलाड़ियों और कोचिंग स्टाफ को सलाह दी जाती है कि वे पेसर या बॉलिंग मशीन के खिलाफ नेट्स में अभ्यास करते समय भी हेलमेट पहनें।



from https://ift.tt/3tqqf5n

Post a Comment

0 Comments